Labels

Monday, October 29, 2012

फासले

सूरज की गर्मी और बादल की नरमी
एक कली को फूल बना देती है

दुनिया के फासले और दिल की मोहब्बत
हर रिश्ते को मुक़म्मल बना देते है

मेहनत और मशक्क़त के ज़ख्म
कामयाबी के मरहम से भर जाते है

ज़िन्दगी का हर एक लम्हा
ज़िन्दगी का एहसास दिलाता है


ग़म से मायूस न हो मुस्तन
ग़म ही ख़ुशी का ज़रिया बन जाता है

No comments: